Breaking

Tuesday, 10 December 2019

शरीर को स्वस्थ रखने के रोजाना कितना भोजन करना चाहिए ।

शरीर को स्वस्थ रखने के रोजाना कितना भोजन करना चाहिए

चलिए जानते है दिन की शुरुआत। सबसे पहले हमें दिन की शुरुआत हल्के भोजन से करनी चाहिए। 
कार्बोहाइड्रेट्स(Carbohydrates)
 पदार्थो में मीठापन होना कार्बोहाइड्रेट्स का होना पाया जाता है। शक्कर और गुड़ में कार्बोहाइड्रेट्स बहुत जयादा अवस्था में पाया जाता है जो आसानी से पच तो जाता है और शक्ति भी देता है। और एक प्रौढ़ व्यक्ति के लिए चालीस ग्राम गुड़ या शक्कर नित्य रूप से सेवन करना चाहिए। 
प्रोटीन (Protein)
  शरीर में अनेक कोशिकाओं का निर्माण और अनेक नष्ट हुए कोशाणुओं का पुननिर्माण करने का प्रोटीन का कार्य है। कार्बोहाइड्रेट्स की तरह प्रोटीन शक्ति भी देता है। अधिकतर प्रोटीन दाल और अंडो में पाया जाता है। दाल और अंडो में  20-25 % प्रोटीन पाया जाता है। 
वसा (Fat)
 पदार्थो में चिकनाई का होना वसा का होना धोतक पाया जाता है।  तेल और वनस्पति घी वसा वाले खाध पदार्थो में पाया जाता है। और ये फैट को भी बढाता है।  
रोजाना भोजन के रूप रूप में हमें क्या -क्या और कितना लेना चाहिए चार्ट के द्वारा जानते है।  
चावल,गेहूं ,मक्का ,ज्वार ,बाजरा आदि                                                                  450 ग्राम 
दूध, दही ,छाछ इत्यादि                                                                                         250 ग्राम 
मूँग, उड़द ,चना , मसूर और आदि की दाले                                                             100 ग्राम
घीया ,टिंडे ,और बिना पत्ते वाली सब्जियाँ                                                             200 ग्राम
घी, मक्खन ,तेल ,आदि प्रकार की चिकनाई                                                             50  ग्राम 
आम , खरबूजा ,संतरा ,केला ,अमरुद फल आदि                                                       50  ग्राम 

कुल मिलाकर  अगर पूर्ण रूप से देखा जाये तो 1100  ग्राम खाना शरीर को स्वस्थ और पुष्ट बनाये रखने के लिए पर्याप्त होता है।  

लोहा ( Iron)
 लोहा (Iron) रक्त बनाता है। शरीर में लोहे की कमी से रक्त बनने में कमी हो जाती है जिससे रक्तक्षीणता (Anemia)रोग हो जाता है। और यह रोग अधिकतर स्त्रियो में अधिक होता है।  भारत में रक्तक्षीणता (Anemia)  अधिक मात्रा में पाया जाता है |
रक्तक्षीणता (Anemia) रोग की पहचान
 रक्त की कमी से यकृत (Liver ) में भोजन का पाचन ठीक से नहीं हो पाता है। और इससे गैस भी बनती है। आँखों की नीचे पालक में सफेदी , त्वचा का पीलापन होना , शरीर में थकावट , और अचानक से मूर्छा आ जाना , और पेट ख़राब रहना और इससे दुर्बलता बढ़ती जाती है। 
शरीर में लोहा (Iron )प्राप्ति के स्रोत क्या क्या है - लोहा(Iron ) कोई खाने पीने की चीज नहीं है इसे भोजन के कुछ तत्वों से प्राप्त करना होता है।जैसे - टमाटर पालक ,शहद आदि में लोहा (Iron) बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है। हरा धनिया ( प्रतिग्राम में 10 मिलीग्राम ) सूखे सोयाबीन में (प्रतिग्राम में 8 मिलीग्राम ), हरा मटर के दाने में  (प्रतिग्राम में 5  मिलीग्राम ),उबला हुआ बथुआ (प्रतिग्राम में 5  मिलीग्राम ) में लोहा(Iron ) होता है। हमें नित्य 15 से 20 मिलीग्राम लोहा खाना चाहिए। जिससे शरीर में लोहे (Iron )की सम्पूर्ण प्राप्ति हो सके और शरीर स्वस्थ और पुष्ट रह सके।

                                                                                                                       

No comments:

Post a comment