Breaking

Thursday, 23 April 2020

भारत में काला धन Black Money In India ?


भारत में काला धन Black Money In India :- भारत में काला धन अपवंचन के फलस्वरूप जो बची हुई पूंजी या संपत्ति है उसे काला धन कहते है जो देश में हो रहे भ्रष्टाचार के कारण परिणाम होता है तथा काला धन देश की आर्थिक नीतियों एवं अर्थ प्रणाली को प्रभावित कर सकता है |
काला धन आजकल भारत की सबसे बड़ी समस्या में से एक है भारत जैसे देश में जहा आय या रोजगार सम्बन्धी पर्याप्त रूप से प्रावधान या साधन नही है | और अगर भारत देश जमाकर्ताओ का विवरण नही माँगा जाता है , ये देश टेक्स हेवन देश कहे जाते है और ऐसे में करीबन ऐसे 40 देशो की सूची शामिल है |
नए मनी काले धन को वैध कानून के लागू होने से काले धन पर कुछ हद तक नियंत्रण की आशा की जा सकती है |
भारत में काला धन Black Money In India :- भारत सरकार द्वारा कई प्रकार की विशेष सरकारी योजनाये,बांन्ड्स एवं स्वेच्छिक घोषनाए स्कीम चलाकर कालेधन को बाहर निकालने के निरंतर प्रयास कर रही है |
भारत में काला धन Black Money In India :- विदेशी बेंको में जमा काला धन की वापसी के सरकार ने  27 मई 2014 को जस्टिस एम.बी.शाह की अध्यक्षता में विशेष जांच दल का गठन हुआ था |
काला धन आने का जरिया भ्रष्टाचार,रिश्वतखोरी,कमीशन,अपराधिक गतिविधियों,आतंकी गतिविधिया ,सफ़ेदपोश -अपराध,हवाला ,आदि से जरिये काला धन एकत्रित होता है , हाल ही में स्विस बैंक में जमा काले धन की वापसी के ,2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले एवं राडिया काण्ड ने काले धन की देशव्यापी चर्चा को बहुत रुख किया था |
भारत में काला धन Black Money In India :- काले धन को लेकर कालेधन की चोरी के मामले में देश के नेता अन्ना हजारे और बाबा रामदेव जैसे बड़े बड़े लोगो ने कई आन्दोलन ओर अनशन किये थे |
स्विस नेशनल बैंक द्वारा जारी की गयी कुछ रिपोर्ट में तो ये तक बताया गया है की स्वीटजरलैंड के केंद्रीय बैंक में भारतीयों के जमा धन में 40 प्रतिशत से जयादा की बढ़ोतरी हुई है | इसी बीच में भारतीयों के कहे अनुसार अगर माना जाये तो विदेशो से काले धन को वापस लाने की प्रक्रिया तेज कर दी गयी है इसका मोजुदा सरकार ने एक घोषणा पत्र में भी इसका उल्लेख किया था | 

भारत में काला धन Black Money In India टैक्स हैवन देश ( TAX HEAVEN COUNTRIES) :- ऐसे देश जहां करों का प्रावधान नही होता है या जिन देशो में टैक्स नाम पर सिर्फ कुछ ही टैक्स लिया जाता है उन देशो को टैक्स हैवन देश कहा जाता है | अधिकतर टैक्स हैवन देशो में दोहरा वित्तीय नियन्त्रण होता है आम भाषा में कहा जाये तो नागरिको एवं गैर नागरिको पर नियंत्रण रखने के लिए नियम अलग अलग होता है | विदेशी कम्पनियों के लिए वित्तीय एवं विनियम नियंत्रण अलग अलग होता है | अमेरिका के नेशनल ऑफ़ बुएरो इकोनोमिक रिसर्च के अनुसार विश्व के करीब 15 प्रतिशत देशो को टैक्स हैवन की श्रेणी में रखा जाता है  स्विस बैंक की ताजा रिपोर्ट के अनुसार स्विस बेंको में करीब 70लाख करोड़ रूपए यानि अगर इन रूपए की डॉलर में बात की जाये तो ( लगभग 1500 बिलियन डॉलर) की भारतीय रकम विदेशी बेंको में जमा है | स्विस बैंको में भारत के बाद जो पूरी तरह विकसित देश है उनका नाम आता है जैसे -रूस ,ब्रिटेन, व यूक्रेन का नंबर आता है | दुनिया में कर चोरी करने वालो की धन की रक्षा स्विस बैंक कर रहा है | क्यूंकि ये बैंक खाताधारको की गोपनीयता का कड़ाई से पालन करता है | यहाँ तक वहा के चेकों में भी सिर्फ अकाउंट नंबर ही लिखा रहता है |दुनिया में ऐसे 69 बैंक है जो 40 टैक्स हैवन देशो में स्थित है |

No comments:

Post a comment